बुधवार, 24 जून 2020

Rahul Gandhi Education in Hindi, राहुल गांधी की जीवनी?

राहुल गांधी एजुकेशन इन हिंदी
राहुल गांधी का जीवनी जानिए हिंदी में

राहुल गांधी का जन्म 19 जून 1970 को एक कुंवारा भारतीय नेता और भारत कि संसद के सदस्य हैं और भारतीय संसद के निचले सदन लोकसभा में केरल में स्थित वायनाड चुनाव क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं राहुल गांधी 16 दिसंबर 1917 को हुई औपचारिक ताजपोशी के बाद के बाद अब भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष भी हैं राहुल भारत के प्रसिद्ध गांधी नेहरू परिवार से हैं राहुल को 2009 के आम चुनाव में कांग्रेस को मिली बड़ी राजनीतिक जीत का श्रेय दिया जाता है उनकी राजनैतिक रणनीतियों में जमीनी स्तर की सक्रियता पर बल देना ग्रामीण जनता के साथ गहरे संबंध स्थापित करना और कांग्रेस पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र को मजबूत करने की कोशिश करना प्रमुख है।


राहुल गांधी का जीवन परिचय

जन्म  : 19 जून 1970
स्थान :  नई दिल्ली
माता का नाम  :  सोनिया गांधी
पिता का नाम :  राजीव गांधी

राहुल गांधी की प्रारंभिक जीवनी।

राहुल गांधी का जन्म 19 जून 1970 को नई दिल्ली भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी और पूर्व कांग्रेसी अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी के यहां हुआ था वह अपने माता पिता की दो संतानों में बड़े संतानों में बड़े थे और प्रियंका गांधी बढेरा के बड़े भाई हैं राहुल गांधी की दादी इंदिरा गांधी भारत की पूर्व प्रधानमंत्री थी।


             Rahul Gandhi Education in Hindi


राहुल गांधी की प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के कॉल बस स्कूल में की और इसके बाद वह प्रसिद्ध धुन विद्यालय में पढ़ने चले गए जहां उनके पिता ने भी विधा रीजन किया था सन 1981 से 83 तक सुरक्षा कारणों के कारण राहुल गांधी को अपनी पढ़ाई घर से ही करनी पड़ी राहुल ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय के रोलिंस कॉलेज फ्लोरिडा से सन सन 1994 में कला स्नातक की उपाधि प्राप्त की इसके बाद सन् 1995 में केम्बीज विश्वविद्यालय के त्रिनिटी कॉलेज से एमफिल की उपाधि प्राप्त की।

राहुल ग़ांधी की कैरियर (व्यवसाय) कैसे बनी?

शुरुआती कैरियर स्नातक स्तर तक की स्नातक स्तर तक की पढ़ाई कर छुटने के बाद राहुल गांधी ने प्रबंधक गुरु राहुल गांधी ने प्रबंधक गुरु माइकल पोर्टर की प्रबंधन परंपरा कंपनी मॉनिटर ग्रुप के साथ 3 3 साल तक काम किया इस दौरान उनकी कंपनी और सहकर्मियों इस बात से पूरी तरह से अनभिज्ञ थे कि वे किसके साथ काम कर रहे हैं।

दोस्तो क्योंकि वह राहुल यहां 1hz नाम रोल भी भी जी के नाम से इस कंपनी में नियोजित है राहुल गांधी के आलोचक उनके इस कदम को उनके भारतीय होने से उपजी उनकी हीन भावना मानते हैं जबकि कांग्रेस जन उनके इस कदम को उनकी सुरक्षा से जोड़कर देखते हैं सन 2002 के अंत में वह मुंबई में स्थित अभियांत्रिकी और प्रौद्योगिकी से संबंधित एक कंपनी " आउटसोर्सिंग कंपनी बैंक अप सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड " के निदेशक मंडल के सदस्य बन गए हैं।

राहुल गाँधी की राजनीतिक कैरियर कैसे बनाई जानिए?

2003 में राहुल गांधी के राष्ट्रीय राजनीतिक में आने के बारे में बड़े पैमाने पर मीडिया में अटक अटकल बा जी का बाजार गर्म था जिसकी उन्होंने तब कोई पुष्टि नहीं की वह सार्वजनिक समारोहों और कांग्रेस की बैठकों में बस अपनी मां के साथ दिखाई देते थे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट श्रृंखला देखने के लिए श्रद्धा वरना यात्रा पर अपनी बहन प्रियंका गांधी के साथ पाकिस्तान भी गए।

जनवरी 2004 में राजनीति उनके और उनकी बहन के संभावित प्रवेश के बारे में अगले बड़ी जब उन्होंने अपने पिता के पूर्व निर्वाचन क्षेत्र अमेठी का दौरा किया जहां से उस समय उनकी मां सांसद थी उन्होंने यह कह कर कि मैं राजनीतिक में विरुद्ध नहीं हूं मैंने यह तय नहीं किया है कि मैं राजनीतिक में कब प्रवेश करूंगा और वास्तव में करूंगा भी भी या नहीं लेकिन एक स्पष्ट प्रतिक्रिया देने से मना कर दिया था।

मार्च 2004 में मई 2004 का चुनाव लड़ने की घोषणा के साथ उन्होंने भारतीय राजनीतिक में प्रवेश की घोषणा की वह अपने पिता के पूर्व निर्वाचन क्षेत्र उत्तर प्रदेश के अमेठी से लोकसभा चुनाव के लिए खड़े हुए जो भारत की संसद का निचला सदन है।

दोस्तो इससे पहले उनके चाचा संजय गांधी ने जो एक विमान दुर्घटना के शिकार हुए थे संसद में इस क्षेत्र का नेतृत्व किया गया तब इस लोकसभा सीट पर उनकी मां थी जब तक वह पड़ोस के निर्वाचन क्षेत्र रायबरेली स्नान तक नहीं हुई थी उस समय उनकी पार्टी ने की 80 में से महज 10 लोकसभा सीटें जीती गई थी और उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का हाल बुरा था।

इससे राजनीतिक अधिकारों को थोड़ा आश्चर्य भी हुआ जिन्होंने राहुल की बहन प्रियंका गांधी में करिश्मा कर सकने और सफल होने की संभावना देखी थी तब पार्टी के अधिकारियों के पास मीडिया के लिए उनका बायोडाटा तैयार नहीं था यह टकले लगाई गई कि भारत के भारत के सबसे मशहूर राजनीतिक परिवारों में से एक देश की युवा आबादी के बीच इस युवा सदस्य की उपस्थिति कांग्रेस सदस्य की उपस्थिति कांग्रेस पार्टी के राजनीतिक भाग्य को पुनर्जीवन देगी विदेशी मीडिया के साथ अपने पहले इंटरव्यू में उन्होंने यह कहा कि देश को जोड़ने वाली संगीता के रूप में पेश किया और भारत की विभाजन कारी राजनीति की निंदा की यह कहते हैं कि वह जातीय और धार्मिक तनाव को कम करने की कोशिश करेंगे उनकी उम्मीदवारी का स्थानीय जनता ने उत्साह के साथ स्वागत किया जी जिनका इस क्षेत्र से इस गांधी परिवार से एक लंबा संबंध था।

जनवरी 2006 में हैदराबाद में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक सम्मेलन में पार्टी के हजारों सदस्यों ने गांधी को पार्टी में एक और महत्वपूर्ण नेतृत्व की भूमिका के लिए प्रोत्साहित किया और प्रतिनिधियों के संबोधन की मांग की उन्होंने कहा कि मैं इसकी सराहना करता हूं कि मैं आपकी भावनाओं और समर्थन के लिए आभारी हूं मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि आपको निराश नहीं करूंगा लेकिन उनसे इस बारे में धैर्य रखने को कहा गया और पार्टी में तुरंत एक उच्च पद लेने से मना कर दिया गया।

गांधी और उनकी बहन ने 2006 में रायबरेली में पूनम सत्तारूढ़ होने के लिए उनकी मां सोनिया गांधी का चुनाव अभियान हाथ में लिया जो आसानी से 40000 से अधिक अंतर के साथ जीती थी 2007 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए एक उच्च स्तरीय कॉन्ग्रेस अभियान में उन्होंने एक प्रमुख भूमिका अदा की हालांकि कांग्रेस ने 853 परसेंट मतदान के साथ केवल 22 जीते ही जीती जीती इस चुनाव में बहुजन समाज पार्टी को बहुमत मिली जो पिछड़ी जाति के भारतीयों का प्रतिनिधित्व करती है।

राहुल गांधी को 24 सितंबर 2007 में पार्टी संगठन के एक फेरबदल में अखिल भारतीय कांग्रेस समिति का महासचिव नियुक्त किया गया था उसी फेरबदल में उन्हें युवा कांग्रेस और भारतीय राष्ट्रीय छात्र संघ का कार्यभार भी दिया गया था एक युवा नेता के रूप में खुद को साबित करने के लिए उन्होंने प्रयास में नवंबर 2008 में उन्होंने नई दिल्ली में अपने 12 तुगलक लेन स्थित निवास में कम से कम 40 लोगों को ध्यानपूर्वक चुनने के लिए सच आत्मक आयोजित किया जो भारतीय युवा कांग्रेस के वैचारिक दस्ते के हरावल बनेंगे जब से वह सितंबर 2007 में महासचिव नियुक्त हुए हैं तब से इस संगठन को परिणत करने के इच्छुक हैं।

राहुल गाँधी की 2009 में चुनावी कार्यकम क्या थी?

2009 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने उनके निकटतम प्रतिद्वंदी को 33000 वोटों के अंतर से पराजित करके अपना अमेठी निर्वाचन क्षेत्र बनाए रखना इस चुनाव में कांग्रेस ने कुल 80 लोकसभा सीटों में से 21 जीतकर उत्तर प्रदेश में खुद को पुनर्जीवित किया और इस बदलाव का श्रेय भी राहुल गांधी को ही दिया गया है 6 साल में देश भर में उन्होंने 125 रैलियों में भाषण दिया था पार्टी वृत्त में वह आर्य जी के नाम से जाने जाते हैं।

राहुल गाँधी आलोचना क्या हैं?

जब 2006 में आखिर में न्यूजवीक ने इल्जाम लगाया कि उन्होंने हार्ड वर्क और कैंब्रिज में अपनी डिग्री पूरी नहीं की थी या मॉनिटर ग्रुप में काम नहीं किया था तब राहुल गांधी के कानूनी मामलों की टीम ने जवाब में एक कानूनी नोटिस भेजा जिसके बाद भी जल्दी से मुकद गए या पहले के बयानों का योग्य किया राहुल गांधी ने 1971 में पाकिस्तान के टूटने को अपने परिवार की सफलताओं में गिना इस बयान ने भारत में कई राजनीतिक दलों के साथ ही विदेश कार्यालय के प्रवक्ता सहित पाकिस्तान के उल्लेखनीय लोगों से आलोचना को आमंत्रित किया प्रसिद्ध इतिहासकार ने कहा कि यदि बांग्लादेश आंदोलन का अपमान था।

2007 में उत्तर प्रदेश के चुनाव अभियान के दौरान उन्होंने कहा कि यदि कोई गांधी नेहरू परिवार से राजनीति में सक्रिय होता है बराबरी मस्जिद नहीं गिरी होती है इसे पी वी नरसिंह राव पर हमले के रूप में व्याख्या क्या किया गया था जो 1992 में मस्जिद के विध्वंस के दौरान प्रधानमंत्री थे गांधी के बयान ने भाजपा समाज पार्टी और वाम के कुछ सदस्यों के साथ विवाद शुरु कर दिया दोनों हिंदू विरोधी और मुस्लिम विरोधी के रूप में उन्होंने अब उपाधि देकर स्वतंत्रता सेनानियों और नेहरू गांधी परिवार पर उनकी टिप्पणियों की बीजेपी के नेता वेंकैया नायडू द्वारा आलोचना की गई है।

उन्होंने पूछा कि क्या गांधी परिवार काल लगाने की जिम्मेदारी लेगा 2008 में आखिर में राहुल गांधी पर लगी एक स्पष्ट रूप से उनकी शक्ति का पता चला मुख्यमंत्री मायावती ने गांधी को चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय के छात्रों को संबोधित करने के लिए संभाग आर का उपयोग करने से रोक दिया बाद में राज्य के राज्यपाल श्री टीवी राजेश्वर जो कुलाधिपति भी थे ने विश्वविद्यालय के कुलपति के सूरी को हटा दिया टीवी राजेश्वर गांधी परिवार के समर्थक और श्री सूर्य नियुक्त थे इस घटना को शिक्षा की राजनीति के सहायक के रूप में उद्धृत किया गया और जितनी द्वारा टाइम्स ऑफ इंडिया में एक वाक्य चित्र में दिया गया उनसे संबंधित प्रश्न का उत्तर राहुल जी ने पैदल सैनिकों द्वारा दिया जा रहा है।

उनका बयान कि अपने कालेज सेट सेट स्टीफंस  मैं उनके 1 वर्ष के निवास के दौरान कक्षा में सवाल पूछने वाले छात्रों को छोटा समझ आ जाता था इस पर कॉलेज प्रशासन की तरफ से तू प्रतिक्रिया हुई कॉलेज प्रबंधन ने कहा कि जब वह सेठ स्टीफेंस कॉलेज में पढ़ाई कर रहे थे तब सवाल पूछना कक्षा में अच्छा नहीं माना जाता था और ज्यादा सवाल पूछना तो और भी नीचा माना जाता था महाविद्यालय के शिक्षकों ने कहा कि राहुल गांधी का बयान ज्यादा से ज्यादा उनका व्यक्तित्व अनुभव हो सकता है सेट स्टीफेल में शैक्षिक वातावरण की मान्यता ऐसा नहीं है।

जनवरी 2009 में ब्रिटेन के विदेश सचिव डेविड मिलिबैंड के के साथ उत्तर प्रदेश में उनके संसदीय निर्वाचन क्षेत्र में अमेठी के निकट एक गांव में उनकी गरीबी पर्यटन यात्रा की गंभीर आलोचना की गई थी इसके अतिरिक्त मिली बेड द्वारा आतंकवाद और पाकिस्तान पर दी गई सलाह और श्री प्रणब मुखर्जी तथा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ निजी मुलाकातों में उनके द्वारा किया गया आचरण की सबसे बड़ी कूटनीतिक भूल मानी गई जुलाई 2017 में भारत और चीन के बीच चल रहे विवाद के बीच राहुल गांधी का चीनी राजदूत से मिलना भी विवाद का विषय बन गया था।

राहुल गांधी के पत्नी का नाम क्या है? उनकी पत्नी है भी या नहीं?

कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी की शादी को लेकर अक्सर टकले लगती रहती है भाई लगती रहती है भाई भाई बात भी सच है जब किसी की शादी की उम्र निकल जाती है तो लोग चर्चा करेंगे ही कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर यह कहना शुरू कर दिया है कि राहुल गांधी विदेश में शादी कर चुके हैं और अपनी पत्नी व बच्चों से मिलने ही विदेश जाते हैं मीडिया वालों भी अक्सर राहुल गांधी से उनकी शादी को लेकर सवाल करते रहते हैं।


अब राहुल गांधी ने सबकी जिज्ञासाओं पर विराम लगा दिया है दो दिवसीय हैदराबाद दौरे पर लगे राहुल सिर फिर पत्रकारों ने शादी को लेकर सवाल दाग दिया तो उन्होंने अपनी शादी को लेकर खुलासा कर दिया पत्रकारों को जवाब देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि उनकी शादी हो चुकी है इस खुलासे पर सभी चौक गए लेकिन जब उन्होंने किस से शादी हुई है यह बताया तो लोगों की हैरानी  बढ़ गई राहुल ने कहा कि मैं पार्टी के साथ विवाह कर चुका हूं।

अब सोचने वाली बात यह है कि कांग्रेस का तो हमेशा अध्यक्ष ही होता रहता है या पहले अध्यक्ष है जो पार्टी को ही अपनी पत्नी बता बैठे हैं अब गौर करने वाली बात यह है कि जब पार्टी में राहुल गांधी पति हो गए तो कांग्रेसियों को क्या करना होगा।

राहुल गांधी का मोबाइल नंबर?

राहुल गांधी ने एक विशेष हेल्पलाइन नंबर 9878985019 का शुभारंभ किया है इस पर कॉल करने वाले लोगों से राहुल गांधी सीधे बात करेंगे।

★ राहुल गांधी का नई दिल्ली का फोन नंबर : ( 011 )  2379 5161 ,(  011 )  230 1956  ,( 011 )  230 1980,

★ राहुल गांधी का निवास का फोन का फैक्स नंबर :  ( 011 )  2301 2410,

★ राहुल गांधी का निवास का फोन नंबर : 011- 2379 5161,

★ राहुल गांधी का व्यक्तिगत नंबर : 011-  2379 5161 , 011-  2301956, 011 -  23018080,

इसीलिए चालू किया गया था ये  नंबर?

लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस की टीम ही विशेष हेल्पलाइन पर आने वाली सारी पर आने वाली सारी कॉल रिसीव करती थी इसके लिए टीम ने अलग-अलग कैटेगरी बनाई थी जानकारी के मुताबिक सारी कॉल को बांटकर उनका एनालिसिस किया गया उसके बाद सारी जानकारी राहुल गांधी के ऑफिस भेजी गई इस जानकारी से चुनावी योजना में चुनावी योजना में योजना में बहुत मदद भी मिली और इससे स्थानीय चुनावी मुद्दों की भी जानकारी निकल कर सामने आई थी।

निष्कर्ष :-
दोस्तो उम्मीद करते है आपको ये पोस्ट काफी ज्यादा पसंद आया होगा अगर दोस्तो आपको इस पोस्ट में कुछ भी नही समझ आया हो तो आप मुझे कमेंट करके बता सकते है या फिर आप मेरे facebook account पर sms कर के मुझे sms कर सकते है।

दोस्तो हम आपकी जरूर ही हेल्प करेगे कोई भी दिक्कत हो मुझे sms करे।
Disqus Comments